श्री ब्रह्मा चालीसा : जय जय कमला सान जगमूला,रहहू सदा जन पे अनुकूला