श्री ब्रह्माणी चालीसा : पद्म कमण्डल अक्ष, कर ब्रह्मचारिणी रूप