श्री ब्रह्माजी की आरती : पितु मातु सहायक स्वामी सखा,तुम ही एक नाथ