श्री पार्श्वनाथ चालीसा : पार्श्वनाथ जगत हितकारी, हो स्वामी तुम व्रत के धारी