श्री धन्वंतरी चालीसा I जय धनवंतरि जय रोगारी,सुनलो प्रभु तुम अरज हमारी