श्री चित्रगुप्त चालीसा : जय चित्रगुप्त ज्ञान रत्नाकर, जय यमेश दिगंत उजागर