श्री इन्द्र बाईसा चालीसा I आवड़जी अरु राजा बाई,और देशाणे करणी माई